Inspirational story of donkey in hindi

एक दिन एक किसान का गधा कुएँ में गिर
गया। वह गधा घंटों ज़ोर -ज़ोर से रोता रहा और
किसान सुनता रहा और विचार
करता रहा कि उसे क्या करना चाहिऐ और
क्या नहीं। अंततः उसने निर्णय
लिया कि चूंकि गधा काफी बूढा हो चूका था, अतः उसे बचाने से कोई लाभ होने
वाला नहीं था; और इसलिए उसे कुएँ में
ही दफना देना चाहिऐ। किसान ने अपने सभी पड़ोसियों को मदद
के लिए बुलाया। सभी ने एक-एक फावड़ा पकड़ा और कुएँ में
मिट्टी डालनी शुरू कर दी। जैसे ही गधे कि समझ में आया कि यह
क्या हो रहा है,वह और ज़ोर-ज़ोर से चीख़
चीख़ कर रोने लगा । और फिर ,
अचानक वह आश्चर्यजनक रुप से
शांत हो गया। सब लोग चुपचाप कुएँ में मिट्टी डालते रहे।
तभी किसान ने कुएँ मेंझाँका तो वह
आश्चर्य से सन्न रह गया। अपनी पीठ पर पड़ने वाले हर फावड़े
की मिट्टी केसाथ वह गधा एक
आश्चर्यजनक हरकत कर रहा था। वह हिल-हिल कर उस मिट्टी को नीचे
गिरा देता था और फिर एक कदम बढ़ाकर
उस पर चढ़ जाता था। जैसे-जैसे किसान तथा उसके पड़ोसी उस पर
फावड़ों से मिट्टी गिराते वैसे -वैसे वह
हिल-हिल कर उस
मिट्टी को गिरा देता और एस सीढी ऊपर
चढ़ आता । जल्दी ही सबको आश्चर्यचकित करते हुए वह
गधा कुएँके किनारे पर पहुंच गया और फिर
कूदकर बाहर भाग गया। ध्यान रखो ,आअपके जीवन में भी आप पर
बहुत तरह कि मिट्टी फेंकी जायेगी,बहुत
तरह कि गंदगी तुम पर गिरेगी। जैसे कि ,आपको आगे बढ़ने से रोकने के लिए
कोई बेकार में
ही आपकी आलोचना करेगा,कोई
आपकी सफलता से ईर्ष्या के कारण
आपको बेकार में ही भला बुरा कहेगा । कोई आप से आगे निकलने के लिए ऐसे रास्ते
अपनाता हुआ दिखेगा जो आपके
आदर्शों के विरुद्ध होंगे। ऐसे में आपको हतोत्साहित होकर कुएँ में
ही नहीं पड़े रहना है बल्कि साहस के साथ
हिल-हिल कर हर तरह
कि गंदगी को गिरा देना है और उससे सीख
लेकर,उसे सीढ़ी बनाकर,बिना अपने
आदर्शों का त्याग किये अपने कदमों को आगे बढ़ाते जाना है। अतः याद रखो !
जीवन में सदा आगे बढ़ने के लिए –

1)नकारात्मक विचारों को उनके विपरीत सकारात्मक विचारों से विस्थापित करते रहो।
2) आलोचनाओं से विचलित न हो बल्कि उन्हें उपयोग में लाकर अपनी उन्नति का मार्ग प्रशस्त करो।

This entry was posted in Life thoughts. Bookmark the permalink.

4 Responses to Inspirational story of donkey in hindi

  1. rajesh kumar gupta says:

    is kahani main sahi mayne mai dhairya bhi parakastha ko chu gai hai.lekin kabhi kabhi admi tut ke bikhar jata hai

  2. karan says:

    Vipreet pristhitiyon me dhairya rakhna jitna muskil hai utna hi upyogi bhi.

  3. Divya gupta says:

    Bahut achhi story hai.

  4. jashubhai says:

    Story is well inspiring

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *