Tulsidas ke dohe in hindi

राम नाम मनि दीप धरू जीह देहरी द्वार।
तुलसी भीतर बाहरौ जौ चाहसि उजियार।।

दया धर्म का मूल है, पाप मूल अभिमान।
तुलसी दया न छांड़िए, जब लग घट में प्राण॥

काम क्रोध मद लोभ की जौ लौं मन में खान।
तौ लौं पण्डित मूरखौं तुलसी एक समान।।

सुरनर मुनि कोऊ नहीं, जेहि न मोह माया प्रबल।
अस विचारी मन माहीं, भजिय महा मायापतिहीं॥

आवत ही हरषै नहीं नैनन नहीं सनेह।
तुलसी तहां न जाइये कंचन बरसे मेह।।

देव दनुज मुनि नाग मनुज सब माया विवश बिचारे।
तिनके हाथ दास तुलसी प्रभु कहा अपनपो हारे॥

तुलसी मीठे बचन ते सुख उपजत चहुँ ओर।
बसीकरन एक मंत्र है परिहरू बचन कठोर।।

बिना तेज के पुरुष की अवशि अवज्ञा होय।
आगि बुझे ज्यों राख की आप छुवै सब कोय।।

तुलसी साथी विपत्ति के विद्या विनय विवेक
साहस सुकृति सुसत्यव्रत राम भरोसे एक।।

 

202 Responses to Tulsidas ke dohe in hindi

  1. anshika says:

    Plzzz hlp me
    It’s gud bt nt helpful to me as m searching 4 tulsidas ke pad which tell about rama’s and Krishna’s childhood stories
    Plzzz hlp

  2. Rajat says:

    wowwwwwwwwwwww that unbelieveable

  3. Sujith.l says:

    It help to complete my hindi project
    Thank

  4. SAKSHI.D.PUNE says:

    VERYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYY GOOOOOOOOOOOOOOOOOOD….

  5. SAKSHI.D.PUNE says:

    NICE…

  6. kruthika.R. says:

    it helped me a lot.
    it is nice!

  7. kruthika. says:

    it is nice!
    usually tulsi’s dohes will be fabulous.

  8. Ajeet says:

    * जामवंत कह सुनु रघुराया। जा पर नाथ करहु तुम्ह दाया॥
    ताहि सदा सुभ कुसल निरंतर। सुर नर मुनि प्रसन्न ता ऊपर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>